Wednesday, April 14, 2021

russia ukraine tensions us: यूक्रेन व‍िवाद: यूरोप में मंडराया जंग का खतरा, रूसी युद्धपोतों का जवाब देंगे अमेरिकी जंगी जहाज! – us now considering sending warships to black sea amid russia ukraine tensions


वॉशिंगटन
यूक्रेन की पूर्वी सीमा पर रूस के बड़े पैमाने पर टैंक और युद्धपोत तैनात करने के बाद अब यूरोप में जंग का खतरा मंडराने लगा है। इस बीच रूसी चुनौती का जवाब देने के लिए अब अमेरिका भी कमर कस चुका है। बताया जा रहा है कि यूक्रेन के साथ पूरा समर्थन दिखाने के लिए अमेरिका अगले कुछ सप्‍ताह में अपने युद्धपोत काला सागर में तैनात करने पर विचार कर रहा है।

सीएनएन ने अमेरिकी अधिकारियों के हवाले से कहा कि अमेरिकी नौसेना समय-समय पर काला सागर में गश्‍त लगाती रहती है लेकिन युद्धपोतों की वहां पर तैनाती से बाइडेन रूसी राष्‍ट्रपति पुतिन को सीधा संदेश देंगे। बाइडेन यह जताने का प्रयास करेंगे कि अमेरिका सीधी नजर इस पूरे मामले पर है। काला सागर में घुसने के लिए अमेरिकी नौसेना को 14 दिन पहले नोटिस देना होगा।

साल 1936 में हुई एक संधि के मुताबिक काला सागर में घुसने के समुद्री रास्‍ते पर तुर्की का नियंत्रण है। यह अभी तक स्‍पष्‍ट नहीं है कि अमेरिकी नौसेना ने तुर्की को नोटिस दिया है या नहीं। अमेरिकी रक्षा अधिकारियों ने कहा है कि नौसेना काला सागर में अंतरराष्‍ट्रीय इलाके पर लगातार निगरानी उड़ान भर रही है ताकि रूसी नौसैनिक गतिविधियों और क्रीमिया में सेना की किसी गतिविधि पर नजर रखी जा सके।

इससे पहले बुधवार को अमेरिकी नौसेना के दो बॉम्‍बर ने एइगेआन समुद्र के ऊपर से उड़ान भरी थी। हालांकि अमेरिका अभी भी रूसी हथियारों की तैनाती को अभी भी आक्रामक नहीं मानता है। रक्षा अधिकारी ने कहा, ‘अगर कुछ बदलता है तो हम जवाबी कार्रवाई के लिए पूरी तरह से तैयार हैं।’ बता दें कि रूसी सेना की बख्तरबंद गाड़ियों, टैंकों और भारी संख्या में सैन्य साजो सामान से लगी गाड़ियों के यूक्रेन की सीमा की ओर बढ़ते वीडियो को देख पूरी दुनिया सहमी हुई है।

इस बार यह तादाद इतनी ज्यादा है कि फसलों की कटाई का मौसम होने के बावजूद किसानों के ट्रैक्टर और अन्य कृषि उपकरणों को ढोने वाली ट्रेनों को भी मिलिट्री ने अपने काम में लगाया गया है। रूस के सैन्य साजो सामान को ले जाने वाली ट्रेनों और ट्रकों के कई वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। हाल में ही अमेरिका से सैन्य हथियारों से लगा एक कार्गो शिप यूक्रेन पहुंचा था। जिसमें कई तरह की गाड़ियां और अन्य साजोसामान भरे हुए थे। रूस पहले से भी यूक्रेन और अमेरिका में बढ़ती हुई नजदीकी से चिढ़ा हुआ है।



Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest Articles