Wednesday, April 14, 2021

china taiwan news: If China attacks Taiwan will fight to the end: अगर चीन ने हमला किया तो ताइवान अंतिम सांस तक युद्ध लड़ेगा


हाइलाइट्स:

  • ताइवान ने चीन को दी खुली चेतावनी- कहा हमला किया तो आखिरी तक लड़ेंगे
  • ताइवान के बिलकुल पास एयरक्राफ्ट कैरियर के साथ युद्धाभ्यास कर रहा है चीन
  • हाल के दिनों में चीनी लड़ाकू विमान लगातार कर रहे हैं ताइवानी एयरस्पेस का उल्लंघन

ताइपे
चीन की धमकियों से भड़के ताइवान ने जबरदस्त पलटवार करते हुए कहा है कि वह आखिरी सांस तक आजादी की लड़ाई लड़ेगा। दरअसल, चीन इन दिनों अपने एयरक्राफ्ट कैरियर और कई घातक युद्धपोतों के साथ ताइवान के बिलकुल पास युद्धाभ्यास कर रहा है। इसी बात को लेकर अमेरिकी सेना के इंडो पैसिफिक कमांड के चीफ ने चेतावनी दी थी कि चीन कभी भी ताइवान के ऊपर हमला कर सकता है। पिछले कुछ दिनों से चीन के लड़ाकू विमान भी लगातार ताइवान की वायुसीमा का उल्लंघन कर रहे हैं।

युद्ध की जरूरत पड़ी तो वह भी करेंगे
ताइवान के विदेश मंत्री जोसेफ वू ने कहा कि अमेरिकी नीति नियंताओं को लेकर मेरी जितनी समझ है, उसके अनुसार उन्हें स्पष्ट रूप से चीन के हमले का खतरा दिखाई देता है। हम बिना किसी सवाल के खुद का बचाव करने के लिए तैयार हैं और अगर हमें युद्ध लड़ने की जरूरत है तो हम युद्ध लड़ेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि अगर आखिरी तक हमें खुद के लोगों की रक्षा करनी पड़ी तो हम उससे भी पीछे नहीं हटेंगे।

मंत्री बोले- ताइवान की रक्षा हमारी जिम्मेदारी
जोसेफ वू ने कहा कि हम पहले से ही अपनी सैन्य क्षमताओं में सुधार करने और रक्षा पर अधिक खर्च करने के लिए दृढ़ संकल्पित हैं। ताइवान की रक्षा हमारी जिम्मेदारी है। हम अपनी रक्षा क्षमता को बेहतर बनाने के लिए हर तरह की कोशिश करेंगे। इसी को लेकर ताइवान हाल के दिनों में अमेरिका से लड़ाकू विमान, मिसाइलों और पनडुब्बी की तकनीक की खरीद कर रहा है।

जंगी हथियारों को टेस्ट कर रहा ताइवान
साउथ चाइना सी में सैन्य उपस्थिति मजबूत करने के बाद ताइवान ने हाल में ही सटीक हमला करने वाली एयर टू ग्राउंड मिसाइल वान चिएन-2 का टेस्ट किया है। यह मिसाइल इतनी खतरनाक है कि 400 किलोमीटर दूर तैनात चीन के टैंक, तोप, आर्मी बेस और हथियार डिपो को पलभर में बर्बाद कर सकती है। चीनी भाषा में वान चिएन का मतलब 10 हजार तलवारें होता है। इस मिसाइल को हवाई जहाज से जमीन पर सैकड़ों किलोमीटर दूर दुश्मन के ठिकाने पर पिन प्वाइंट एक्यूरेसी के साथ हमला करने के लिए बनाया गया है।

चीन से तनाव के बीच ताइवान की हुंकार, साउथ चाइना सी में तैनात करेगा किलर पनडुब्बियां
ताइवान के पास क्षेत्रफल के हिसाब से सबसे ज्यादा मिसाइल
साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट की रिपोर्ट के अनुसार, ताइवान के पास इतनी ज्यादा मिसाइलें मौजूद हैं जो क्षेत्रफल के हिसाब से दुनियाभर में सबसे ज्यादा है। हालांकि ताइवान के रक्षा मंत्रालय ने इन मिसाइलों की कुल संख्या को आजतक जारी नहीं किया है। ताइपे की चाइना टाइम्स अखबार के अनुसार, ताइवान के पास कुल 6000 से अधिक मिसाइलें हैं।


इसलिए दुश्मन हैं चीन और ताइवान
1949 में माओत्से तुंग के नेतृत्व में कम्युनिस्ट पार्टी ने चियांग काई शेक के नेतृत्व वाले कॉमिंगतांग सरकार का तख्तापलट कर दिया था। जिसके बाद चियांग काई शेक ने ताइवान द्वीप में जाकर अपनी सरकार का गठन किया। उस समय कम्यूनिस्ट पार्टी के पास मजबूत नौसेना नहीं थी। इसलिए उन्होंने समुद्र पार कर इस द्वीप पर अधिकार नहीं किया। तब से ताइवान खुद को रिपब्लिक ऑफ चाइना मानता है।



Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest Articles