Breaking News

gust greece turkey: أول طائرة مقاتلة من طراز رافال تم تسليمها لسلاح الجو اليوناني اليوناني: लड़ाकू विमान ग्रीस की वायु सेना में शामिल तुर्की के एफ -16 लड़ाकू विमान से होगी टक्कर


एथेंस
से तनाव के बीच ग्रीस की वायु सेना को फ्रांस से पहला राफेल विमान मिल गया है। फ्लाइट टेस्ट सेंटर में आयोजित हैंडओवर सेरेमनी ग्रीस के रक्षा मंत्री निकोलाओस पनागियोटोपोलोस और डसॉल्ट एविएशन के प्रेसिडेंट सीईओ एरिक ट्रैपियर भी मौजूद रहेरहे विमान यहां से उड़ान भरकर सीधे ग्रीस पहुंचेंगे। महीने पहले ही ग्रीस ने डसॉल्ट एविएशन के साथ 18 राफेल विमानों की खरीद को लेकर करार किया था। से 10 के F3-R होंगे ، जबकि शेष 8 सेकेंड जेट होंगे ، जिसके लिए ग्रीस को कोई नहीं देना होगा।

वायु सेना बेस पर तैनात होंगे राफेल
को मिलने वाले अगले पांच राफेल विमान फ्रांसीसी वायु सेना से लिए जाएंगे। विमानों को ओवरहॉल कर इससे ग्रीस के हेलेनिक एयरफोर्स के पायलटों और तकनीशियनों को प्रशिक्षित किया जाएगा। एयरफोर्स इन राफेल विमानों को तनाग्रा वायु सेना बेस पर तैनात करने की प्लानिंग कर रही है। से तुर्की के एफ -16 विमानों पर करीबी नजर रखी जा सकती है।

से खतरा ، 18 देगा फ्रांस ، 8
और ग्रीस दोनों के पास एफ -16 लड़ाकू विमान
में अपनी दादागिरी चलाने का ख्वाब देख रहा तुर्की ग्रीस एयरफोर्स में शामिल होने वाले राफेल विमानों से डरा हुआ में तुर्की और ग्रीस दोनों देशों के पास अमेरिका -16 फाइटर जेट है। ग्रीस के पास राफेल आ जाने से हवा में तुर्की की ताकत कम हो जाएगी। ، फ्रांस ने खुलकर ग्रीस का साथ देने का ऐलान कर दिया है।

ग्रीस ने खदेड़ा तुर्की का F-16S जेट، फ्रांस से खरीद रहा राफेल विमान
और ग्रीस में क्या है विवाद
، पिछले साल से तुर्की का समुद्री तेल खोजी शिप ओरुक रीस ग्रीस के द्वीप कस्तेलोरिज़ो के नजदीक रिसर्च गतिविधि को दे रहा है। का दावा है कि तुर्की का शिप उसके जलक्षेत्र में ऑपरेट कर रहा है। ، तुर्की ने ग्रीस के दावे को उस समुद्री हिस्से को अपना बताया है। – जड़ पूर्वी भूमध्यसागर क्षेत्र में साढ़े तीन क्यूबिक मीटर (टीसीएम) गैस है، जिसमें 2.3 टीसीएम स्पष्ट रूप से इजिप्ट، इजरायल और साइप्रस के इंट्रइंट

के राफेल से ‘डरा’ तुर्की ، समुद्र में शुरू किया एयर डिफेंस युद्धाभ्यास
के पास है S-400 डिफेंस मिसाइल सिस्टम
तुर्की के पास S-400 डिफेंस मिसाइल सिस्टम है ، जो दुश्मन के एयरक्राफ्ट को आसमान गिरा सकता है। S-400 रूस का सबसे अडवांस लॉन्ग रेंज सर्फेस-टु-एयर मिसाइल डिफेंस सिस्टम माना जाता है। दुश्मन के क्रूज، एयरक्राफ्ट और बलिस्टिक मिसाइलों को मार गिराने में सक्षम है। सिस्टम रूस के ही S-300 अपग्रेडेड वर्जन है। सिस्टम को अल्माज-आंते है، जो रूस में 2007 के बाद से ही में है।

Leave a Reply