Breaking News

الجيش الوطني الأفغاني ضد طالبان: استراتيجية طالبان للسيطرة على الحدود يمكن أن تشكل تهديدًا كبيرًا للحكومة الأفغانية: की सीमा पर कब्जा करने रणनीति अफगानिस्तान सरकार के बड़ा खतरा हो सकती


हाइलाइट्स

  • मे तालिबान को मिली बड़ी रणनीतिक बढ़त
  • अधिकतर बॉर्डर पोस्ट पर तालिबान का कब्जा
  • खाने-पीने और पेट्रोलियम पदार्थों की हो सकती है भारी कमी

काबुल
से अमेरिकी सेना की वापसी के बाद तालिबान लड़ाके बिना लड़ाई के ही जीत हासिल करने की तैयारी में हैं। काबुल की सरकार की तुलना में अफगानिस्तान के बॉर्डर पोस्ट पर कहीं मजबूती से कब्जा करके बैठा हुआ में आशंका जताई जा है कि यह संगठन ज्यादा-खराबा किए बिना देश पर रणनीतिक रूप कब्जा जमाने की तैयारी में बॉर्डर पोस्ट वहां व्यापार रुक गया है। में अफगान सरकार को राजस्व का भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। आपूर्ति के बाधित होने से राजधानी काबुल में खाने-पीने जैसी चीजों की भी कमी होने लगी है।

के अधिकतर बॉर्डर पर तालिबान का कब्जा
– रास्तों से 2.9 बिलियन डॉलर का आयात-निर्यात किया जाता है। अशरफ गनी सरकार अभी नंगरहार ،، पक्तिका، खोस्त और निमरोज प्रांतों में ईरान और पाकिस्तान से लगती बॉर्डर पोसा ्टर रास्तों से होने वाले व्यापार की कुल कीमत 2 बिलियन डॉलर के आसपास है। के इस सोचे-समझे प्लान से अमेरिका तक हैरान है। सेना के कई विशेषज्ञों ने भी तालिबान की बढ़ती ताकत को लेकर चेतावनी दी है।

مجاهدون سابقون يحملون أسلحة لدعم القوات الأفغانية في قتالها ضد طالبان في ضواحي ولاية هرات (2).

और अफगान सेना में जंग जारी
और तुर्कमेनिस्तान के साथ लगने वाली दो बॉर्डर पोस्ट पर कब्जे को लेकर भयंकर लड़ाई छिड़ी हुई है। . एक संकीर्ण वखान पट्टी अफगानिस्तान को चीन के शिनजियांग उइगुर स्वायत्त क्षेत्र से जोड़ती

-पीने की कमी जूझने के कगार पर काबुल
पड़ोसी देश ही अफगानिस्तान को समुद्र तक पहुंच प्रदान करते हैं और अधिकांश व्यापार को संभालते हैं। . के लड़ाके राजधानी काबुल तक पहुंच गए हैं। -उल-अजहा से एक दिन पहले काबुल में राष्ट्रपति की नमाज के दौरान तालिबान ने कई रॉकेट दागे। माने जाने वाले ग्रीन जोन में इन रॉकेट के गिरने से लोगों के मन में तालिबान को लेकर डर गया

مجاهدون سابقون يحملون أسلحة لدعم القوات الأفغانية في قتالها ضد طالبان في ضواحي ولاية هرات.

अफगान सरकार!
– ने रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण लाइनों को बंद कर दिया है। नहीं، पर तालिबान का से आपूर्ति लाइन भी ठप पड़ गई बताया कि अफगानिस्तान का शक्ति संतुलन तेजी से तालिबान के पक्ष में झुकता दिखाई दे रहा है।

से सीमा पर कब्जा कर रहा तालिबान
है कि अगर तालिबान आक्रामक तरीके से सीमाओं पर कब्जे कोशिशें जारी रखता काबुल अन्य सरकार-नियंत्रित क्षेत्रों को जल्द ही भोजन की भारी कमी का सामना करना पड़ सकता है. मानना ​​है कि तालिबान एक कुशल रणनीति के तहत सीमाओं पर कब्जा कर रहा है। उद्देश्य सरकार के वास्तविक आत्मसमर्पण को मजबूर करना है।

مجاهد سابق يقف حراسة عند نقطة تفتيش وهو يحمل سلاحًا لدعم القوات الأفغانية في قتالها ضد طالبان في ضواحي مقاطعة هرات.

के राजस्व में होगा भारी इजाफा
मानना ​​है कि तालिबान जल्द ही निर्यात आयात वस्तुओं पर भारी शुल्क और करों करना शुरू कर कर 1990 जब अफगानिस्तान पर का नियंत्रण था ، तब भी उन्होंने ऐसा ही किया था। तालिबान के राजस्व में वृद्धि होगी और वे लंबे समय तक सरकार के साथ युद्ध जारी रख सकेंगे। में अफगान सेना और सरकार के लिए तालिबान की यह रणनीति बहुत ही भारी पड़ने वाली है।

Leave a Reply