Breaking News

burqa ban: Switzerland Burqa Ban Latest Updates: स्विट्जरलैंड में बुर्का पर प्रतिबंध लगाने की तैयारी जनमत संग्रह में लोगों ने किया मतदान


हाइलाइट्स:

  • स्विट्जरलैंड ने बुर्के पर प्रतिबंध को लेकर जनमत संग्रह का आयोजन किया
  • एक्जिट पोल में 51 फीसदी लोगों ने बुर्के और नकाब को प्रतिबंधित करने के पक्ष में मतदान किया
  • यूरोप के कई देश पहले ही बुर्के को पूर्ण या आंशिक रूप से कर चुके हैं प्रतिबंधित

ज्यूरिख
यूरोप के कई देशों के नक्शेकदम पर चलते हुए स्विट्जरलैंड ने भी अब बुर्के और नकाब पर प्रतिबंध की तैयारी कर ली है। इसे लेकर रविवार को पूरे देश जनमत संग्रह किया गया। जिसमें लोगों के पूछा गया कि क्या सार्वजनिक स्थानों पर नकाब को प्रतिबंधित किया जाए या नहीं? अब एग्जिट पोल में ऐसे संकेट मिल रहे हैं कि करीब 51 फीसदी लोगों ने बुर्के और नकाब को प्रतिबंधित करने के पक्ष में मतदान किया है।

30 फीसदी महिलाएं पहनती हैं नकाब
इस साल की शुरुआत में ल्यूसर्न विश्वविद्यालय ने एक सर्वे में दावा किया था कि स्विट्जरलैंड में कोई भी महिला बुर्का नहीं पहनती है। जबकि 30 फीसदी महिलाएं ऐसी हैं जो सार्वजनिक स्थानों पर जाने के दौरान नकाब से चेहरा ढंकती हैं। इस रेफरेंडम को स्विट्जरलैंड में रहने वाले मुस्लिम समुदाय के खिलाफ देखा जा रहा है।

रेफरेंडम के जरिए लोगों से मांगी गई राय
महीने पहले स्विट्जरलैंड की सरकार एक प्रस्ताव लाई थी कि कोई भी सार्वजनिक रूप से अपने चेहरे को कवर नहीं करेगा, न ही उन क्षेत्रों में जहां सेवाएं सभी के लिए समान रूप से सुलभ हैं। जिसके बाद से इस प्रस्ताव का कई संगठनों ने विरोध किया। सरकार ने कोई रास्ता न देखते हुए लोगों से ही इसके बारे में रेफरेंडम के जरिए राय मांगी थी। जिसे लेकर रविवार को मतदान हुआ।

स्विट्जरलैंड में इतनी मुस्लिम आबादी
स्विट्जरलैंड की 86 लाख की आबादी में मुस्लिम समुदाय की हिस्सेदारी 5.2 फीसदी है। इस देश में रहने वाले अधिकांश मुस्लिम, बोस्निया, तुर्की और कोसोवो के रहने वाले हैं। इन देशों के निवासी मुस्लिम परिवारों की महिलाएं नकाब और बुर्का पहनती हैं। नकाब से चेहरे के आधे हिस्से को ढंका जाता है, जबकि बुर्का से पूरे शरीर को कवर किया जाता है।

डेनमार्क ने ‘कट्टर इस्लाम’ के खिलाफ छेड़ी जंग, विदेशों से मस्जिदों की फंडिंग पर लगाएगा रोक
बुर्का बैन के समर्थन में कौन-कौन?
स्विट्जरलैंड में बुर्का को प्रतिबंधित करने का प्रस्ताव एगरकिंगर कोमटे नाम के एक संगठन ने उठाया था। इस संगठन में स्विट्जरलैंड के दक्षिणपंथी स्विस पीपुल्स पार्टी (एसवीपी) के राजनेता शामिल हैं। ये नेता स्विट्जरलैंड की राजनीति में इस्लाम की घुसपैठ का कड़ा विरोध करते हैं। पार्टी का मुख्य तर्क यह है कि स्वतंत्र लोग अपना चेहरा दिखाते हैं। उनका मानना है कि बुर्का और निकाह सामान्य कपड़े नहीं हैं क्योंकि वे कथित तौर पर निष्पक्ष लिंग विभेद और उत्पीड़न का प्रतीक हैं।

इस्लामिक आतंकवाद के खिलाफ ऐक्शन में जर्मनी, ISIS के आतंकी इमाम को भेजा जेल
इन देशों में पहले से है प्रतिबंध
यूरोप के कई देशों ने बुर्के पर आंशिक या पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगाया हुआ है। इसमें नीदरलैंड, फ्रांस, ऑस्ट्रिया, बेल्जियम, जर्मनी और डेनमार्क शामिल हैं। हाल के दिनों में जर्मनी, फ्रांस और डेनमार्क ने कट्टरपंथ को देखते हुए और भी कई तरह के नए प्रतिबंधों को लगाने का ऐलान किया हुआ है।



Source link

Leave a Reply