Breaking News

الطلب على البنزين والديزل في الهند: पेट्रोल-डीजल पर पड़ी कोरोना की मार، लोगों ने 7 फीसदी कम कर दी ईंधन की … – بسبب الموجة الثانية من الكورونا ، انخفض الطلب على البنزين والديزل في الهند بنسبة 7٪ في أبريل 2021 من أبريل 2019 يقول تقرير


नई दिल्ली।
कोरोना की दूसरी लहर ने देश में काफी नुकसान पहुंचाया है। देश में बढ़ते मामलों और लगातार हो रही मौतों के बीच कोरोना देश की अर्थव्यवस्था पर भी भारी असर डाल रहा है। इसी कड़ी में अप्रैल महीने में ईंधन की खपत में 7 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। हालांकि، 7 फीसदी की यह गिरावट अप्रैल 2019 के मुकाबले है। दरअसल، इस साल अप्रैल महीने के आखिरी 20 दिनों में तेजी से कोरोना के मामले बढ़े। वहीं، इस दौरान देश के कई राज्यों में लॉकडाउन लगा दिया गया، जिसके कारण देश में ईंधन की खपत में गिरावट दर्ज की गई है। यहां ध्यान देना जरूरी है कि पिछले साल अप्रैल महीने में कोरोना महामारी के कारण पूरे देशभर में लॉकडाउन था ، जिसके कारण ईंधन की खपत में ऐतिहासिक गिरदा

भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (BPCL) में मार्केटिंग एंड रिफाइनरीज के निदेशक अरुण सिंह PTI से कहा ، “अप्रैल 2019 के मुकाबले अप्रैल 2021 के अंत में ईंधन की कुल 7”

अप्रैल महीने में घटी पेट्रोल की बिक्री

2021 की तुलना में अप्रैल 2021 में पेट्रोल या गैसोलीन की बिक्री 6.3 की महीना-दर-महीना गिरावट दर्ज की गई। जबकि، अप्रैल 2019 के मुकाबले पेट्रोल की खपत में 4.1 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। बता दें कि अप्रैल 2021 में भारत में 2.14 मिलियन टन गैसोलीन या पेट्रोल की बिक्री हुई। वहीं، अप्रैल 2020 8.72000 टन पेट्रोल या गैसोलीन की बिक्री हुई थी।

अप्रैल महीने में डीजल की बिक्री में भी आई गिरावट

2021 की तुलना में अप्रैल 2021 डीजल की बिक्री में 1.7 की महीना-दर-महीना गिरावट दर्ज की गई। जबकि، अप्रैल 2019 के मुकाबले डीजल की खपत में 9.9 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। बता दें कि अप्रैल 2021 देश 5.9 मिलियन टन डीजल की बिक्री हुई। जबकि، अप्रैल 2020 में 2.84 मिलियन टन डीजल की बिक्री हुई थी। यहां जानना जरूरी है कि भारत की अर्थव्यवस्था पर डीजल की कीमतों का बड़ा असर पड़ता है। भारत में कुल ईंधन का 40 फीसदी हिस्सा डीजल के तौर पर खपत किया जाता है।

Leave a Reply